मंगलवार, 21 अगस्त 2012

वि‍कल्‍प


कल
दुनि‍या के बीज मि‍लेंगे
अभी तो व्‍यस्‍त हैं
दुनि‍या के नाश के आवि‍श्‍कारक

वि‍कल्‍प
जब भी कोई
मि‍ल जाएगा पृथ्‍वी का
नष्‍ट कर दी जाएगी दुनि‍या

जि‍सका जी नहीं लगता
कल का इंतज़ार करें
इंतज़ार करे पृथ्‍वी के नष्‍ट होने तक

मुकम्‍मल सोच ले तरकीब
बीजों को हथि‍याने की,
सूँघ ले सारे ठि‍काने
जहाँ, हो सकता है दस्‍तावेज
पृथ्‍वी के वि‍कल्‍प का

       ******

एक टिप्पणी भेजें
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...