मंगलवार, 25 दिसंबर 2012

...आसमानों की परवाज़ कर


चल  उठ  एक  नई  ज़िंदगी  का  आगाज़  कर,
पेट खाली ही सही आसमानों की परवाज़ कर ।


मान    भी    ले    अब   यह   ज़ि‍द   अच्‍छी   नहीं,
''मि‍ल गया 'यूटोपि‍या' का रास्‍ता'' ये आवाज़ कर ।


लबों पे आने मत दे नाम तख्‍तो-ताज का,
बस   उसको   दुआ   दे,   'जा  राज  कर । 


लाख  करे  कोई  उजालों की बात, बहक मत, 
तू फ़क़त ज़िंदा रह और ज़िंदगी पे नाज कर ।
                                                              १९९५  ई०

                        ०००००
एक टिप्पणी भेजें
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...