सोमवार, 17 जुलाई 2017

तुम,

तुम,

पानी ने
किया प्रेम और
मीठा हो गया


आग,
तुम क्या हुई
नफरत करके !
एक टिप्पणी भेजें
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...