बुधवार, 23 जनवरी 2013

कोई नहीं है

बंद दरवाज़ा
लौटा देता है वापस , 
राह अपनी

थकान, दुनी 
हो जाती है जाने से 
आने की 

रास्‍ता 
पहचानने लगा है 

हर मोड़ कुछ 
सीधा हो जाता है 
सहानुभूति‍ में 

कभी भूल से साँकल 
खटखटाने पर  
झूम उठता है ताला 
खि‍लखि‍लाकर बताता हुआ, 
''कोई नहीं है । '' 
                                     १९९८ ई० 
       *** 


1 टिप्पणी:

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…

प्रभावशाली ,
जारी रहें।

शुभकामना !!!

आर्यावर्त
आर्यावर्त में समाचार और आलेख प्रकाशन के लिए सीधे संपादक को editor.aaryaavart@gmail.com पर मेल करें।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...